रोशनी का शिकार

हम सब जानते ही हैं कि सूरजमुखी सूर्य की दिशा में ही अपने को घुमाती है। दूसरे शब्दों में मानें”रोशनी का शिकार” करती है। लेकिन बरसात के मौसम में जब बादलों के छाया में सूरज छिप जाता तो ये फूल क्या करते हैं?🤔

शायद यही हो सकता है कि सूरजमुखी फूल अपनी पत्तों को गिराकर नीचे झुकी होगी। लेकिन यह बिलकुल गलत है। वे फूल एक दूसरे की तरफ मुडकर अपनी ऊर्जा को आपस में बाँटकर खिल उठती हैं। कुदरत की संतुलन अनोखी होती है।

अब हमें भी इसी तरह की रोशनी हर एक की जीवन में आवश्यक होता है। जैसे कि परिवार में, दोस्तों में या तो कामों में।सीधे चलते हुए जीवन में कभी कभी बादलों की छाया की तरह कुछ व्याकुलता फैलना भी अनिवार्य है। ऐसी स्थिति में ज्यादातर लोग घबरा जाते हैं न तो तनाव में पड जाते हैं। हम क्यों न सूरजमुखी का अनुकरण करें??😎

प्रकृति एक बहतरीन आचार्य है जिसमें हर एक मुसीबत का समाधान हमें मिलता है। तो क्यों न हम अपनों के लिए संकटों में सूरजमुखी बनें???

One thought on “रोशनी का शिकार”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: