गुरु श्री आदिशंकराचार्य के उपदेश से।

जंगल के शेर कभी भी अपने बच्चों से खाना नहीं माँगती, गाय लेटकर अपने बच्चे से पानी देने को नहीं कहती। इस दुनिया के सभी जीवराशियाँ मरते दम तक अपने काम स्वयं करते हैं। किसी का भी सहारा नहीं लेते हैं। लेकिन सिर्फ मानव जाति ही एक ऐसा प्राणी है, जो दूसरों के सहारे को सदा अपनाती है।वह भी बुढापे में इनका सहारा अनिवार्य होता है।

इस बात पर ध्यान देना, इन सबका कारण केवल हमारा सोच और विचार ऐसा हो गया है। सोच बदलकर आरोग्यपूर्ण जीवनशैली को अपनाएँ।सोच बदलने पर सब कुछ जरूर बदल जाता है।

मैं, मैं, मैं।।

मैं ने कमाया। मैं ने घर बनाया। मैं ने उसे बचाया। मैं ने उसका सहारा दिया, यदि मैं न हूँ तो इसका नतीजा सोच भी नहीं पाओगे। ऐसा “मैं” का अहंभाव ही इन सबका कारण है।

क्या हम ऐसा कह सकते हैं कि, मैं ही हृदय को चला रहा हूँ, मैं ही पेट के अंदर से खाने को जीर्ण करना और उनमें से पोषक पदार्थों को अलग करके रक्त से मिलाकर पूरे शरीर में फैलाने की काम करता हूँ, किड्नी के कामों को काबू में रखता हूँ, जैसे🤔🤔???

ये सारे काम अपने आप करने का कारण जो है, वही स्रृष्टिकर्ता को “मैं” कहने का अधिकार है। इसलिए हम “मैं” का अहंकार भाव को छोडकर सबके साथ प्यार भाव से रहें। इस जिंदगी के बारे में चिंता मत करना, यह भगवान की देन है, भविष्य के बारे में भी ज्यदा मत सोचना। वह भी ईश्वर से तय किया गया है।

अपने से बेहतर रहनेवालों से तुलना मत करें, इससे हम दुःखी होंगे। हम से निम्न रहनेवालों का भी मजाक न उडाएँ। हम हम ही रहें जिससे हमारे आत्मविश्वास बढें।

5 thoughts on “गुरु श्री आदिशंकराचार्य के उपदेश से।”

  1. इसी दिव्य ज्ञान के वजह वो शंकराचार्य हो गये

    नहीं मैं नहीं तू नहीं अन्य रहा,
    गुरु शाश्वत आप अनन्य रहा
    गुरु सेवत ते नर धन्य यहाँ,
    तिनको नहीं दुःख यहाँ न वहाँ

    बहुत बहुत धन्यवाद मैडम यह दिव्य ज्ञान हम सब के साथ साझा करने के लिए।

    Liked by 4 people

  2. हम हम ही रहें जिससे हमारे आत्मविश्वास बढें……bahut sahi aur sacchi baat 🙂
    thanks for sharing

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: