कानप्लग 🦻 🙉

एक लड़का 🙎वार्षिक परीक्षा में सारे पाठों में फेल 🤦हो गया था। प्रधानाध्यापक को इस पर बहुत गुस्सा 😡आ गया। उसने लड़के पर नाराज़ करते हुए कहा कि ” दस साल से इस 🏫 पाठशाला में पढ़ रहे हो, अध्यापक पढ़ाते वक्त कानों 👂 में रूई ☁️ दबाकर रखे हो क्या???” लड़का चुपचाप खड़ा था। उसे पाठशाला से निकाला गया।

वह रास्ते 🛣️में चल रहा था और उसके कानों में रूई दबाने की बात गूंज🔉 रहा था। अपने दोनों हाथों से कानों को बंद 🤷 किया। वह उसे अनोखा सा लगा। तभी उसके मन में एक विचार 🤔 पैदा हुई। वही है “EAR 👂 MUFF “

इसे पढ़ने वालों ने खरीदे। कारखानों🏭 में काम करने वाले मशीनों के तेजी आवाज से बचने के लिए खरीदे। वैसे ही उसका व्यवसाय चल रहा था। तभी “वर्ल्डवार -१” शुरू हुआ। युद्ध क्षेत्र में बम विस्फोट 💥जैसे ध्वनि प्रदूषण से सभी सैनिकों🧑‍✈️ को बचने के लिए उन्हें एक खास “हेल्मेट” 🪖बनाकर दिया। अब वह लड़का करोड़पति बन गया। वही है, “चेस्टर ग्रीनउड “। किसी भी हालत का सही इस्तेमाल हमें ऊंचाई पर पहुंचाती है। 📈।

Advertisement

5 thoughts on “कानप्लग 🦻 🙉”

  1. जब उसने गुरु कि बातों पे ध्यान दिया तब गुरु कि डांट में भी उसकी भलाई ही निकली।
    बेहतरीन कहानी ✨❣️🤗

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: