निंदा की असर

एक जंगल में एक ऋषि तपस्या कर रहे थे। वे तपस्या के बीच में ही अपने आँखों को बिना खोले, हाथ बढाते थे, आस पास के गांव से जो लोग उन्हें दर्शन करने आते थे, वे उनके हाथ में फलों को काटकर रखते थे। ऋषि इन्हें खाते थे। लोगों का विश्वास था कि ऋषि को खिलाने से उनके जीवन के कष्ट दूर हो जाएगा।

एक दिन उस राज्य का राजा शिकार करने के लिए जंगल आया था। उसने ऋषि को देखा। लेकिन उस समय जंगल में राजा और ऋषि के अलावा कोई नहीं था। तभी ऋषि ने अपना हाथ बढाया। राजा ने मजाके में अपने घोड़े का गोबर थोड़ा सा लेकर ऋषि के हाथ में रख दिया। ऋषि ने भी अपने आँखों को खोले बिना गोबर को अपने मुँह में डाल दिया। इसे देखकर राजा ने जोर से हँसते हुए वहाँ से निकला।

अगले दिन राजा के दरबार में एक ज्ञानी पधारे और अपने दिव्य दृष्टि से राजा के पिछले दिन की व्यवहार की याद दिलाकर उन्हें चेतावनी देते हुए कहा कि, राजा के कुकर्म का नतीजा यह है कि, नरक में उसकी मृत्यु के बाद ऋषि के हाथ में जिस प्रकार के गोबर को रखा था, बिलकुल उसी प्रकार की गोबर की एक छोटी सी पहाड़ जैसी इकट्ठा हुई है, जिसे राजा को हर दिन खिलाया जाएगा।

इस बात पर राजा बहुत ही घबरा गए और अपने दुष्कर्म का प्रायश्चित के लिए राजगुरु के सलाह के अनुसार अपने महल के बगीचे में एक कुटीर बनाया। शानदार जीवन को छोड़कर उसी कुटीर में रहने लगा।राज्य के कन्याओं को वहाँ बुलाकर उन्हें नैतिकता का मूल्य समझाकर, उनके विवाह के लिए उचित धन, जेवर देकर उन्हें वापस भेज रहा था। लेकिन कुछ लोग राजा के इस व्यवहार को दोष देकर उन्हें बुरी तरह प्रचार करने लगे।

ऐसी हालत में एक बार एक गुणवती, अपने अपाहिज पति को लेकर भीख मांगने राजा के कुटीर के सामने आई। तभी उसकी पति ने इसे वहाँ खडे होने से मना करते हुए राजा की निंदा की। वह गुणवती पत्नी अपने पति के बातों पर खिन्न होकर उसे अपनी पतिव्रता शक्ति द्वारा सारे वृत्तांत को जानकर, उसे समझाई।

राजा अपने पाप का प्रायश्चित कर रहा है, जिसे कुछ लोग राजा को बुरी तरह से समझ कर प्रचार कर रहे हैं। इससे जो कोई भी राजा के अच्छे कामों को बुरी तरह दिखाने की कोशिश करें, उसे राजा के लिए नरक में इकट्ठा हुई गोबर का मुट्ठी भर का खाने के लिए दिया जाएगा। वैसे ही वहाँ इकट्ठा हुई पूरा गोबर अब तक खतम हो गई है।

गलत कामों पर पछताकर जो अपने को सुधार कर अच्छे कामों में लग जाय, उसे बुरी रंग चढाने वालों को इनके पाप का हिस्सा भुगतना पडता है।

Please Note…The government can only hold a lockdown for a certain period of time. The lockdown will end slowly. The government also will not show such strictness becauseThe government has made you aware about corona disease, social distancing, hand sanitization etc. You are also seeing the situation after getting sick in the country.Now those who are sensible, understand their routine and work for a long time.The government will not and will not guard you 24 hours 365 days.The future of you and your family is in your hands.After the lockdown opens, think carefully, leave the house and go to work and do your work as per the rules.Do you think, after May 17, the corona will suddenly go away, we will start living like before?No, not at all .This virus has taken root in our country, we have to learn to live with it.how ?How long will the government keep the lockdown? How long will the exit be banned?Now we have to fight this virus ourselves, by changing our lifestyle, by strengthening our immunity.We have to adopt a life style hundreds of years old.Eat a pure diet, eat pure spices. Rely on Amla, Aloe vera, Giloy, Pepper, Cloves etc.Free yourself from the clutches of anti-biotics.You have to increase the amount of nutritious food in your food, forget fast food, pizza, burgers, cold drinks.We have to change our utensils, we have to adopt heavy vessels like brass, bronze, copper from aluminum, steel etc. which naturally eliminate the virus also.The amount of milk, curd, ghee will have to be increased in your diet.Forget the taste of the tongue, spicy fried, hotel garbage.This has to be done for at least the next 7-8 months. Only then will we be able to survive.And those who do not change will be in trouble.Accept this and start implementing them….Life is your decisionSTAY SAFE

Liebster award

I’m so much glad that I have been nominated for this Liebster award.

Thank you so much Era and Anjali Tiwari for nominating me for this award.

Both of you are my very recent followers. But you have nominated me for this award that’s really touching. I’m emotionally too much overwhelmed. I have read both your blogs completely and they are very much inspiring. Thanks for sharing. 🤗👏👏👏👏💐💐

My answers to your questions Era

1. What is your inspiration behind writing?

Ans. My brother in law s daughter sneha srikant who is doing her engineering in IIT Madras, brought me out from my depression and she introduced me this wordpress. Because of her motivation I have started writing, for the past 3yrs. I have also shared this in one of my blogs “margadarshan”.

2. That one cartoon character from your childhood memory you relate so much?

Ans. During my childhood there was no TV . We read chanda mama books. So I can’t reply for this.

3.If given 3 wishes, what they would be?

Ans. 1. Loka samastha sukhino bhavanthu. 2. I pray god to show good path to my children in their life. 3. As I don’t have any interest in this materialistic world I totally surrender myself to the almighty. 😁🤗

4. Which subject you don’t like at all?Why?

Ans. I don’t like mathematics. Because from my childhood the teachers who ever taught maths were very much boring.

5. Any moment that totally changed your life?

Ans. I can’t say anything sure. But wordpress brought great change in me by keeping fully occupied through reading the blogs of my followers.😍

6. Are you an introvert or extrovert?

Ans. I’m an extrovert.

7. If given a chance of meeting a famous personality of 21st century,you will like to meet whom and why?

Ans. I’m great fan of our former president Mr. A.P.J. Abdul kalam sir. But unfortunately he is no more. But glad that my daughter met him when she was studying in MIT Madras, then he was an advisory faculty of Anna University.

8. Your favourite poem or article?

Ans.I would like to read positive, spiritual and travel related articles. Of course vegetarian recepies too. For the sake of my children. Because I like to cook different recepies for them.

9. One thing you love eating always and can eat it without a guilt?

Ans. Fruits are my all time favourite .

10.Coffee or tea?

Ans. Both ☺

11. Where you see yourself after 5 years?

Ans. May be in my same place. 😁

Hope I have answered all questions.

Thank you so much Era. Your questions were really interesting.

Wish you all the best. 💐

एकांत

पक्षियों का राजा गरूड़ पक्षी कहा जाता है। उसका आयु  काल लगभग सत्तर साल की है। लेकिन उसे अपनी चालीस बरस की उम्र में , जीवन में एक चुनौती का सामना करना पड़ता है। उसकी चोंच कुंठित होकर झुक जाता है। नाखून भी कमजोर हो जाते हैं। और पंख भी बहुत भारी होकर उडने में वह बहुत ही मुश्किलता महसूस करने लगती है।

ऐसी स्थिति में वह अपने को एकांत में रखना चाहती है। इस कारण वह जंगलों के पास ऊँची पहाड़ के शिखर पर पहूँचकर अपनी चोंच के सहारे अपने पंखों तथा नाखूनों को खींच निकाल देती है और अपने चोंच को भी पत्थर पर रगड़कर निकाल देती है।इस कारण खून से भरा उसका बदन दर्द से पीड़ित हो जाता है।तब वह पक्षी देखने में नवजात शिशु की भांति लगती है। वह सबके नजरों से छुपकर पत्थरों के बीचों बीच मिलनेवाले कीटाणुओं को खाकर अपने को जीवित रखती है। ऐसी ही स्थिति में लगभग तीन महीने तक जीवित रह सकती है तो चौथे महीने से वह अपने खोएहुए नुकीली चोंच, तीखी नाखून और मजबूत पंख वापस पाकर नयी शक्ति से आसमान में चक्कर काटने लगती है।

यह गरूड़ पक्षी तीन महीने तक अपने को एकांत में रखकर तीस साल तक की मजबूत जीवन की बुनियाद बनाती है।इस गरूड़ पक्षी के जीवन में से हमें एक सीख मिलती है,एकांत में रहना नवजीवन का शुरुआत है। वह दर्द भरी हो सकती है, लेकिन एक बेहतरीन जीवन को दे भी सकती है।एकांत में रहते हुए कष्टों के बारे में न सोचकर नये राहों को ढूंढना ही बेहतर जीवनशैली का बुनियाद हो सकता है।

एकांत में रहना शाप नहीं बल्कि एक वरदान है

Have you ever read these Western philosophers Leo Tolstoy (1828-1910) “Hindus and Hindutva will one day rule the world, because this is a combination of knowledge and wisdom”. Herbert Wells (1846 – 1946): “Until the effectiveness of Hindutva is restored, how many generations will suffer atrocities and life will be cut off, then one day the entire world will be attracted to it, on that day there will be Dilshad and on that day the world will be inhabited. Albert Einstein (1879-1955): “I understand that through his intelligence and awareness he did that which the Jews could not do. In Hinduism it is the power that can lead to peace.” Huston Smith (1919): “The faith which is upon us and this is better than us in the world, then it is Hindutva. If we open our hearts and minds for it, then it will be good for us”. Michael Nostradamus (1503 – 1566): “Hindutva will become the ruler religion in Europe, but the famous city of Europe will become the Hindu capital”. Bertrand Russell (1872 – 1970): “I read Hinduism and realized that it is for the religion of all the world and all mankind.” Hindutva will spread throughout Europe and in Europe, big thinkers of Hinduism will emerge. One day it will come that Hindus will be the real stimulus of the world. “. Gosta Lobon (1841 – 1931): “Hindus speak of peace and reconciliation. I invite Christians to appreciate the faith of reform.” Bernard Shaw (1856 – 1950): “The entire world will accept Hindu religion one day and if it can not even accept the real name it will accept it by name only.” West will accept Hindutva one day and Hindu will be the religion of those who have studied in the world “. Johann Geith (1749 – 1832): “We all have to accept Hinduism now or later and this is the real religion. If I say no to Hindu, I will not feel bad, I accept this right thing.” Plz share to all ur links