स्वामी

“आज जरुर इस स्वामी से पूछना चाहिए कि वे कौन हैं,कहां से आए हैं और उनका असली नाम क्या है ??? ” मोतीलाल के मन में ये सवाल बहुत दिनों से अक्सर उठ रहा था।

बहुत साल पहले एक आदमी इनके गांव आया था और वहीं गांव के बाहर ही एक छोटी सी झोंपड़ी बनाकर वहीं बसने लगा। वह कभी भी गांव के अंदर नहीं गया। खेती के कामों में गांव वालों को मदद करता था। वेतन में पैसे नहीं लेता था सिर्फ खाना ही लेता था। सब लोग उसे स्वामी कहकर पुकारते थे।

मोतीलाल यह सब सोचते हुए उनके झोंपड़ी के पास आया। वहां स्वामी रस्सी के पलंग पर लेटकर मुस्कुरा रहा था। मोतीलाल को देखते ही उसे अंदर बुलाया। अंदर मोतीलाल को सिर्फ एक धोती के सिवा कुछ नहीं नजराया। उसने स्वामी से कहा, ” कल मैं अपने रिश्तेदार के यहां गया था। वह मरते वक्त में था और बहुत ही कष्ट अनुभव कर रहा था। मुझे अपनी मृत्यु की चिंता आ गई। मैं तो बिना कष्ट के मरना चाहता हूं। ” तब स्वामी ने अपने ऊपर की तौलिए को नीचे फेंककर उसे मोतीलाल के सामने ही जलाया। और मोतीलाल से उसके पास की बहुत ही पुराना वस्त्र को ऐसे ही जलाने को कहा।

मोतीलाल घर जाकर अपने बहुत साल पुराने कुर्ते को हाथ में लिया लेकिन वह अपने दादी की तोहफा थी। बहुत पुरानी होने पर भी उसे फेंकने को उसे मन नहीं था। वैसे ही हर एक कपड़े का कुछ कहानी था। दूसरे दिन वह स्वामी के पास आया और अपनी असहायता को बताया। स्वामी हंसते हुए कहा, “एक पुराने कपड़े को तुम फेंकने को तैयार नहीं हो, तो इस शरीर रूपी कपड़े को कैसे छोड़ सकते हो ???”

मोतीलाल उनसे अपने को अच्छी ज्ञान देने की प्रार्थना की। स्वामी ने उसे तीन तरह के सलाह दी। ” भूखे रहो। अकेले रहो। जागे रहो। ” भूखे रहने का मतलब , आध्यात्मिकता को सीखने के लिए तरसना। सबके साथ रहने पर भी अपने को अकेला में रहने की भावना को अपने अंदर ही महसूस करना। जागे रहने का मतलब है जैसे एक पुराने कपड़े को फेंकने को तैयार नहीं वैसे ही कितने जन्मों से कितने बंधनों से अपने को कैद करके रखें हैं। यह सोच हमेशा हमें जागे रखते हैं। यदि इन तीन विषयों को सदा के लिए याद करें तो सब कुछ आसान महसूस करेंगे।

ऐसे उत्तम चिंतन “ज्ञानी वल्ललार ” के उपदेश से ही उपलब्ध है।

वल्ललार

राष्ट्रीयता 🇮🇳

वर्ष १९६५, भारत, पाकिस्तान के बीच कश्मीर को अपने कब्जे में लेने के लिए घोर संग्राम चल रहा था। और इस युद्ध में पाकिस्तान का हाथ बढ रहा था। भारत को तुरंत अतिरिक्त सेना की जरूरत थी। श्रीनगर के मुख्यालय को राजधानी दिल्ली से एक संदेश आई कि किसी भी तरह से श्रीनगर के हवाईअड्डे को बचाने की और अतिरिक्त सेना को भेजने की हामी दी।

लेकिन अफसोस की बात यह थी कि श्रीनगर में कड़ी बर्फ की बारिश हो रही थी और हवाईअड्डे की रनवे पर बर्फ जम गई थी। उसे निकाले बिना हवाईजहाज का उतरना नामुमकिन था। तब समय था रात ११बजे। तत्कालीन कूली रख लेने की इजाजत दी गई। फिर भी काम करने के लिए कोई नहीं मिला।

तभी एक अधिकारी को संघपरिवार की याद आई। तुरंत वे श्रीनगर के संघपरिवार के कार्यालय आए। वहां राष्ट्रीय स्वयंसेवकों के मीटिंग चल रहा था। प्रेमनाथ और अर्जुन जैसे नेता वहां पर मौजूद थे। उनसे आफिसर श्रीनगर के हवाईअड्डे पर बसा हुआ बर्फ तुरंत निकालने के लिए स्वयंसेवकों के मदद मांगी।

करीब ५०लोगों तक की जरुरत थी। चार घंटों के अंदर बर्फ को निकालना था। अर्जुन ने ६०० लोगों को भेजने के लिए तैयार था। और ४५ मिनटों में सब आफिसर के साथ जाने के लिए तैयार हो गए। आफिसर को इस विषय पर बहुत खुश हुआ और उसने संघपरिवार के सदस्यों को अपना धन्यवाद व्यक्त किया।

बर्फ निकालने की काम शुरू हुई। आफिसर ने दिल्ली कार्यालय को यह संदेश भेजकर अगले दिन अतिरिक्त सेना को भेजने की विनती की। अगले दिन २७ अक्टूबर को आठ हवाईजहाज श्रीनगर आ पहूंची। सेना का भी संघपरिवार के सेवकों ने साथ दिए। इस तरह हमारे हवाईअड्डे को बचाने में स्वयंसेवकों के सहारे भारत सेना कामयाब हुई। और इस परिश्रमी काम करने के लिए स्वयंसेवकों ने वेतन नहीं ली।

” न फूल चढ़ें। न दीप जले। ” पुस्तक के आधार से।

https://www.goodreads.com/book/show/38345424-na-phool-chadhe-na-deep-jale

नमस्ते सदा वत्सले मातृभूमि से। जय भारत। 🇮🇳 वंदे मातरम। 🙏

शाकाहारी।

तमिलनाडु के ब्राह्मण लोग ज्यादातर ८०-९५ साल तक जीवित रहते हैं। वे बहुत कम खाते हैं। वे लोग फिल्टर काफ़ी और छाछ को खास जगह देते हैं।

चावल, सांबार, रसम्, छाछ और एक सब्जी के साथ उनके दैनिक भोजन होती है। ४०% लोगों में मधुमेह होने पर भी काबू में ही रहती है।

सुबह छः बजे को एक फिल्टर काफ़ी और शाम ४ बजे और एक फिल्टर काफ़ी बस। सुबह ८-९ बजे को दो दोसा या तीन इड्ली खाते हैं। दुपहर को भोजन और रात ८ बजे को ३-४ रोटी- सब्जी या दही चावल खाते हैं।

हर दिन सुबह और शाम आधे घंटे तक पार्क में पैदल चलना इनके लिए जरूरी है। स्नान करके विष्णु सहस्रनाम, रुद्रं ,चमकम् , आदि जरूर पढ़ते हैं। प्रातः काल और संध्या काल में संध्या वंदन करना उनके लिए अनिवार्य है।

वे लोग बचत करने में ज्यादा ध्यान देते हैं। सब्जी खरीदना, बैंक जाना या विद्युत कार्यालय जाना इत्यादि काम करने में यदि करीब में हों तो पैदल ही जाते हैं।

अस्वस्थता इन लोगों में कम ही नजराती है क्योंकि इन लोगों के भोजन में नमक और तेल की इस्तेमाल बहुत कम होती है। उनके खाने में फ़ास्ट फ़ूड का जगह ही नहीं होती है। कभी किसी के पार्टी में साल में एक या दो बार हो सकता है। कम मसाले और कम तेल की इस्तेमाल के कारण इन लोगों में गुस्सा करनेवाले लोग ज्यादातर नहीं दीखते हैं।

इन लोगों में तनाव कम होने का कारण यही है कि, “जाने दो ” जैसे मनोभाव और सब कुछ ईश्वर की लीला समझकर भगवान पर पूरी तरह से भरोसा रखते हैं।

यहां तमिलनाडु में उनकी जन संख्या बहुत कम है। यहां के द्राविड़ राज्य सरकार उन्हें सबसे वंचित करती है और उन्हें कश्मीरी पंडितों की तरह निकालना भी चाहती है। अपने शांत गुण के कारण यहां वे लोग चुपचाप रहते हैं।

फिर भी विदेशों में और हमारे भारत देश के अन्य हिस्सों में उन्हें अच्छी तरह से आदर सत्कार मिल रहा है। इस तरह ये लोग अपने आध्यात्मिकता और शाकाहारी भोजन विधान से लंबी उम्र तक जीवित रहते हैं।

Definition of Hinduism

Swami Chinmayanandaji was a renowned saint. Once, a ‘secular’ minded journalist, who generally show Hinduism in poor light, vis a vis other religions, asked a question to Swamiji:

Q: “Who is the founder of Islam?”

A: Prophet Mohammad.

Q: Who is the founder of Christianity?

A: Jesus Christ.

Q: Who is the founder of Hinduism?

Thinking that Swamiji has no answer,

the lady journalist proceeded:

“There is no founder and hence, Hinduism is not a religion or Dharma at all.”

A: Then, Swamiji said:

“You are right.!”

Hinduism is not a religion. It is a Science.

She did not understand that.

Swamiji put some more questions to her.

Q: “Who is the founder of Physics?”

Ans: “No one person.”

*Q:- *Who is the founder of Chemistry?”*

Ans: “No one person.”

Q: “Who is the founder of Biology?”

Ans: “No single person.”

“Many many persons, from time to time, contributed to the wealth of knowledge of any Science.”

Swamiji continued:

“Hindu Dharma is a Science, developed over the centuries, contributed by saints and sages for giving right direction to the society by their own research and experiences .”

“Islam has only one book -Quran.”

“Christianity has only one book -Bible.”

“But for Hinduism, I can take you to a library and show you hundreds of books.”

“Because, Hinduism is a scientific religion- called Sanatana Dharma -“ *" 🙏🏻Eternal Dharma. 🙏🏻"*

The most accurate definition
🌹🙏🏻

Intellectual Humour


Dr Sarvepalli Radhakrishnan, a great Guru, Teacher, Philosopher and former President of India in whose honour Teachers’ Day is celebrated, was an exceptionally witty man.
The King of Greece came to India on a state visit.
President Radhakrishnan welcomed him at Palam Airport.
. “Your Majesty! You are the first King of Greece to come to India on invitation.
The last time, Alexander the Great came uninvited.”


Gandhiji: Don’t drink milk, which is the essence of beef.
Radhakrishnan: “In that case we all are cannibals. For we drink our mother’s milk, which is the essence of human flesh.”


Winston Churchill while having a cup of tea said to Dr. Radhakrishnan: Sugar is the only English word where “s” is pronounced as “sh”
Dr. quipped: “Are you sure?”


Once Winston Churchill hosted a State banquet in honor of Dr Radhakrishnan, who washed his hands before eating and used his hands for having the food while Churchill used spoons and fork.
Churchill could not stop himself from advising Dr. Radhakrishnan to use spoon and fork saying that they were more hygienic.

👉 Radhakrishnan replied, “Since nobody can use my hand to eat, my hand is more hygienic than any spoon or fork you use”

Stronger 🦵 Legs

KEEP YOUR LEGS🦵🏽 STRONG A MUST READ ARTICLE
▪️When we are old, our feet must always remain strong.
▪️When we gain ageing / grow aged, we should not be afraid of hair turning grey (or) his skin sagging (or) wrinkles.
*▪️Among the signs of *longevity,* as summarized by the US Magazine “Prevention”, strong leg muscles are listed on the top, as the most important and essential one.
▪️Do not move your legs for two weeks & your leg strength will decrease by 10 years.
*▪️A study from the University of Copenhagen in Denmark found that both old and young, during the two weeks of *inactivity,* the legs muscle strength got weakened by a third which is equivalent to 20-30 years of ageing.
▪️As our leg muscles weaken, it will take a long time to recover, even if we do rehabilitation exercises, later.
▪️Therefore, regular exercise like walking, is very important.
▪️The whole body weight/load remain on legs.
*▪️The foot is a kind of *pillars,* bearing the weight of the human body.
▪️Interestingly, 50% of a person’s bones and 50% of the muscles, are in the two legs.
▪️The largest and strongest joints and bones of the human body are also in the legs.
▪️”Strong bones, strong muscles, and flexible joints form the “Iron Triangle” that carries the most important load on the human body.”
▪️70% of human activity and burning of energy in one’s life, is done by the two feet.
*▪️Do you know this? When a person is young, his *thighs have enough strengths, to lift a small car!*
*▪️The foot is the *center of body locomotion.*
▪️Both the legs together have 50% of the nerves of the human body, 50% of the blood vessels and 50% of the blood flowing through them.
▪️It is the large circulatory network that connects the body.
*▪️Only when the feet are healthy then the *convention current of blood* *flows, smoothly, so people who have strong leg muscles will definitely have a *strong heart.*
▪️Aging starts from the feet upwards.
▪️As a person gets older, the accuracy and speed of transmission of instructions between the brain and the legs decreases, unlike when a person is young.
*▪️In addition, the so-called *Bone Fertilizer Calcium* will sooner or later be lost with the passage of time, making the elderly more prone to bone fractures.
*▪️Fractures in the elderly easily *triggers* series of complications, especially fatal diseases such as brain thrombosis.
▪️Do you know that 15% of elderly patients will die within a year of a thigh-bone fracture.
▪️Exercising the legs, is never too late, even after the age of 60 years.
▪️Although our feet will gradually age with time, exercising our feet is a life-long task.
*▪️Only by strengthening the legs, *one can prevent further aging.*
*▪️Please walk for *at least 30-40 minutes,* daily to ensure that your legs receive sufficient exercise and to ensure that your leg muscleus remain healthy.
▪️Please share amongst your elderly friends and family members.

द्वंद्व युद्ध

श्री कृष्ण के अद्भुत विश्लेषण।

महाभारत के कुरुक्षेत्र युद्ध भूमि पर कर्ण और अर्जुन के बीच में द्वंद्व युद्ध चल रहा था। दोनों में से किसी का भी जीत मुश्किल था। घोर संग्राम हो रहा था। अर्जुन अपने एक तेजपूर्वक अस्त्र से कर्ण के रथ को लगभग १००/ गज की दूरी पर धकेल दिया। लेकिन फिर भी कर्ण ने आगे बढ़कर वैसे ही विशेष अस्त्र को अर्जुन के रथ पर प्रयोग किया। इससे अर्जुन का रथ १०/ गज की दूरी तक पीछे गई। इसे देखकर श्री कृष्ण कर्ण की बड़ी प्रशंसा की।

इस प्रशंसा पर अर्जुन को गुस्सा आया। इससे पहले कर्ण ने अपने मुकुट को एक बार गिराया जो बहुत ही पराक्रमी काम था, लेकिन अब की बार अपने से दस गुना कम दूरी पर रथ को पीछे धकेलने पर श्री कृष्ण उसका प्रशंसा करना आश्चर्य की बात लगी।

शाम को आराम करते समय अर्जुन ने श्री कृष्ण से अपने मन की आशंका को प्रकट किया। श्री कृष्ण ने कहा कि ” यह दूरी की बात नहीं बल्कि भारी की बात है। पार्था !! तुम ऐसा समझ रहे हो कि दोनों रथों पर सिर्फ दो लोग उपस्थित हैं। क्या इस बात को भूल गए हो कि तुम्हारे रथ पर हनुमानजी के ध्वज फहराया गया है, जो सदा तेरी रक्षा कर रहा है। जब भी तुझ पर मंत्रास्त्र का प्रयोग होता है, हनुमान उन मंत्रों को शक्तिहीन कर देता है। इस बार भी कर्ण तुझ पर जो अस्त्र का प्रयोग किया है, उसे रोकने के लिए हनुमान ” महिमा” सिद्धि की प्रयोग करके, रथ को पर्वत जैसा मजबूत बना दिया, फिर भी कर्ण इतना मजबूत रथ को भी दस / गज दूरी पीछे कर सका।। इस वीरता को ही मैं ने प्रशंसित किया। “। इसे सुनकर अर्जुन को अपने घमंडी पर शर्म हुआ और उसने श्री कृष्ण से माफी मांगी।

जय श्री कृष्ण। 🙏

NOT A COINCIDENCE

  1. ADULT has 5 letters,
    so does YOUTH .
  2. PERMANENT has 9 letters,
    so does TEMPORARY .
  3. GOOD has 4 letters,
    so does EVIL .
  4. BLACK has 5 letters,
    so does WHITE .
  5. CHURCH has 6 letters,
    so does MOSQUE .
  6. BIBLE has 5 letters,
    so does QUR’AN .
  7. LIFE has 4 letters,
    so does DEAD .
  8. HATE has 4 letters,
    so does LOVE .
  9. ENEMIES has 7 letters,
    so does FRIENDS .
  10. LYING has 5 letters,
    so does TRUTH .
  11. HURT has 4 letters,
    so does HEAL .
  12. NEGATIVE has 8 letters,
    so does POSITIVE .
  13. FAILURE has 7 letters,
    so does SUCCESS .
  14. BELOW has 5 letters,
    so does ABOVE .
  15. CRY has 3 letters,
    so does JOY .
  16. ANGER has 5 letters,
    so does HAPPY .
  17. RIGHT has 5 letters,
    so does WRONG .
  18. RICH has 4 letters,
    so does POOR .
  19. FAIL has 4 letters,
    so does PASS .
  20. KNOWLEDGE has 9 letters,
    so does IGNORANCE .
    Are they all by Coincidence?

This means LIFE is like a double edged sword but the choice we make determines our future.

AGNI PATH

Please motivate the youth around you!

Benefits of AGNIPATH

1st Year: Rs.21000 × 12 = Rs. 2,52,000
2nd Year: Rs.23100 × 12 = Rs. 2,77,200
3rd Year: Ra.25580 × 12 = Rs. 3,06,960
4th Year: Rs.28000 × 12 = Rs. 3,36,000
4 Years Total = Rs.11,72,160

Retirement Time after 4th Year: Rs.11,71,000

Grand Total after 4th Year = Rs. 23,43,160

Plus:

  1. Excellent Army Training,
  2. Food, Clothes, Boarding & Lodging @ Army Regimental Life for 4 years.
  3. Disciplined Lifestyle and
  4. Matured Mindset.

Job Offers after 4 Years from:

  1. Tri-Forces (Army, Navy, Airforce)
    2.. CRPF
  2. Railway Protection Force
  3. GRP
  4. CISF
  5. BSF
  6. Customs & Central Excise
  7. Forest Departments
  8. ONGC
  9. IOCL
  10. HPCL
  11. Indian Railways
  12. State Police
  13. Banks
  14. Airports
  15. Seaports
  16. Traffic Police Depts
  17. Toll Plazas
  18. ATMs
  19. NMDC
  20. SAIL
  21. All Central PSUs
  22. All State PSUs.
  23. Task Force
  24. Corporates like TATAs, Wipros, Mahindras.
  25. Private Security Agencies
  26. Logistics Companies
  27. Cargo Companies
  28. Warehousing Cos.
  29. Road Transport Corps (RTCs)
  30. Private Transport Cos.
  31. Airliners (Indigo, SpiceJet, Tata Vistara etc etc)
  32. Community Policing.
    and Many MORE!

And, excellent training to face rioters/looters/anti-social elements.

And, 10% Quota for Agniveers in Coast Guard, Defence, Civilian Posts, and in nearly 100 Defence PSUs & Defence R&D Units viz….

  1. Hindustan Aeronautics Ltd (All 38 Divisions/Units of HAL and HAL JV Companies)
  2. Bharat Electronics Ltd (all 10 Units)
  3. Bharat Dynamics Ltd
  4. BEML Ltd.
  5. Mishra Dhatu Nigam Limited (MIDHANI)
  6. Mazagon Dock Shipbuilders Limited (MDL)
  7. Garden Reach Shipbuilders and Engineers Ltd (GRSE)
  8. Goa Shipyard Limited (GSL)
  9. Hindustan Shipyard Ltd
  10. Advanced Weapons & Equipment India Limited
  11. Gliders India Ltd
  12. Troop Comforts Ltd
  13. Armoured Vehicles Nigam Limited (AVNL)
  14. Munitions India Limited (MIL)
  15. Yantra India Limited (YIL)
  16. India Optel Limited (IOL)
  17. Defence Research and Development Organisation (DRDO) Labs/Units
  18. Advanced Centre for Energetic Materials (ACEM)
  19. Advanced Numerical Research & Analysis Group (ANURAG)
  20. Advanced Systems Laboratory (ASL)
  21. Aerial Delivery Research & Development Establishment (ADRDE)
    22.Aeronautical Development Establishment (ADE)
  22. Armament Research & Development Establishment (ARDE)
  23. Centre for Air Borne System (CABS)
  24. Centre for Artificial Intelligence & Robotics (CAIR)
  25. Centre for Advanced Systems (CAS)
  26. Integration of Strategic Systems
  27. Centre for Military Airworthiness & Certification (CEMILAC)
  28. Centre for Personnel Talent Management (CEPTAM)
  29. Centre for Fire, Explosive & Environment Safety (CFEES)
  30. Centre for High Energy Systems and Sciences (CHESS)
  31. Centre for Millimeter Wave Semiconductor Devices & Systems (CMSDS)
  32. Combat Vehicles Research & Development Establishment (CVRDE)
  33. Defence Avionics Research Establishment (DARE)
  34. Defence Bio-engineering & Electromedical Laboratory (DEBEL)
  35. Defence Electronics Applications Laboratory (DEAL)
  36. Defence Scientific Information & Documentation Centre
  37. Defence Food Research Laboratory (DFRL)
  38. Defence Institute of Bio-Energy Research (DIBER)
  39. DRDO Integration Centre (DIC)
  40. Integration of Strategic System
  41. Defence Institute of High Altitude Research (DIHAR)
  42. High Altitude Agro-animal Research
  43. Defence Institute of Physiology & Allied Science (DIPAS)
  44. Defence Institute of Psychological Research (DIPR)
  45. Defence Laboratory (DL)
  46. Defence Electronics Research Laboratory (DLRL)
  47. Defence Materials & Stores R&D Establishment (DMSRDE)
  48. Defence Metallurgical Research Laboratory (DMRL)
  49. Defence Research & Development Establishment (DRDE)
  50. Defence Research & Development Laboratory (DRDL)
  51. Defence Research Laboratory (DRL)
  52. Defence Terrain Research Laboratory (DTRL)
  53. Gas Turbine Research Establishment (GTRE)
  54. High Energy Materials Research Laboratory (HEMRL)
  55. Institute of Nuclear Medicine & Allied Sciences (INMAS)
  56. Institute of Systems Studies & Analyses (ISSA)
  57. Institute of Technology Management (ITM)
  58. Instruments Research & Development Establishment (IRDE)
  59. Integrated Test Range (ITR)
  60. Joint Cypher Bureau (JCB)
  61. Laser Science & Technology Centre (LASTEC)
  62. Electronics & Radar Development Establishment (LRDE)
  63. Military Institute of Training (MILIT)
  64. Mobile Systems Complex (MSC)
  65. Microwave Tube Research & Development Centre (MTRDC)
  66. Naval Materials Research Laboratory (NMRL)
  67. Naval Physical & Oceanographic Laboratory (NPOL)
  68. Naval Science & Technological Laboratory (NSTL)
  69. Proof and Experimental Establishment (PXE)
  70. Recruitment and Assessment Center (RAC)
  71. Research Centre Imarat (RCI), HYD
  72. Research & Development Establishment (Engrs)
  73. DRDO Research & Innovation Centre (RIC)
  74. Scientific Analysis Group (SAG)
  75. Snow and Avalanche Study Establishment (SASE)
  76. Snow and Avalanche Complex
  77. Solid State Physics Laboratory (SSPL)
  78. Terminal Ballistics Research Laboratory (TBRL)
  79. Vehicle Research & Development Establishment (VRDE)

and many more!